Bal Vikas Notes in Hindi : CTET UPTET SUPERTET

  • विकास की प्रक्रिया सम्‍बन्धित है – अधिगम से एवं कौशल अधिगम से
  • विकास की मन्‍द गति की स्थिति में अधिगम होता है – मन्‍द
  • अधिगम के लिए आवश्‍यक है – बालक की मानसिक स्‍वस्‍थता एवं शारीरिक स्‍वस्‍थता
  • कौशलात्‍मक अधिगम के लिए प्रमुख आवश्‍यकता होती है  शारीरिक विकास की
  • अस्थि विकलांग बालकों के समक्ष अधिगम प्रक्रिया में बाधा उत्‍पन्‍न होती है – शारीरिक विकास के कारण
  • व्‍यक्तित्‍व को प्रभावशाली बनाने तथा व्‍यक्तित्‍व गुणों के सीखने में आवश्‍यक होता है – शारीरिक, मानसिक एवं सामाजिक विकास
  • स्‍वस्‍थ शरीर में निहित है – स्‍वस्‍थ मन
  • गतिविधि आधारित अधिगम के लिए आवश्‍यक है – शारीरिक एवं मानसिक विकास
  • विकलांग बालकों के समक्ष विद्यालय में समायोजन की समस्‍या का प्रमुख कारण होता है – शारीरिक विकास
  • शारीरिक विकास को इसलिए महत्‍वपूर्ण माना जाता है, क्‍योंकि – यह मानसिक विकास में योगदान देता है। यह अधिगम में योगदान देता है। यह कौशलों के सीखने में योगदान देता है।
  • मानसिक रूप से मन्‍द बालक का अधिगम स्‍तर कम होता है क्‍योंकि ये बालक – विषय-वस्‍तु पर ध्‍यान नहीं दे पाते हैं। इनका मानसिक विकास पूर्ण नहीं होता है।
  • अवधान का सम्‍बन्‍ध होता है – मानसिक विकास से
  • स्‍मृति विहीन बालक का अधिगम स्‍तर निम्‍न होता है, क्‍योंकि – उसका मानसिक विकास नहीं होता है।
  • एक बालक अपनी शैक्षिक समस्‍याओं का समाधान करने में असमर्थ है तो माना जाएगा – मानसिक विकास का अभाव
  • प्रभावी एवं उच्‍च अधिगम के लिए आवश्‍यक है – मानसिक विकास
  • अधिगम से सम्‍बन्धित मानसिक शक्तियां हैं – स्‍मृति, अवधान, चिन्‍तन
  • कक्षा में अधिगम प्रक्रिया हेतु बालकों का समूह विभाजन किस आधार पर किया जाता है – मानसिक विकास के आधार पर
  • अधिगम प्रक्रिया में चिन्‍तन की प्रभावशीलता प्रदर्शित करती है – उच्‍च मानसिक विकास को
  • अधिगम प्रक्रिया में प्रमुख भूमिका होती है – मानसिक शक्तियों की
  • किसी कार्य को सीखने में सफलता के लिए आवश्‍यक है – उचित शारीरिक विकास, उचित मानसिक विकास
  • उच्‍च मानसिक विकास के लिए आवश्‍यक है – उत्‍तम स्‍वास्‍थ्‍य
  • मानसिक विकास की मन्‍दता प्रभावित करती है – अधिगम को
  • प्रतिभाशाली बालकों का अधिगम स्‍तर उच्‍च पाया जाता है क्‍योंकि उनका मानसिक विकास होता है – उच्‍च
  • अरस्‍तू के अनुसार, शिक्षा का प्रमुख उद्देश्‍य माना जाता है – मानसिक शक्तियों का विकास
  • शिक्षक के मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य का प्रभाव पड़ता है – शिक्षण अधिगम दोनों पर
  • वैज्ञानिक विधियों का प्रयोग प्रमुख रूप से अधिगम में उन छात्रों के लिए किया जा सकता है, जो छात्र होता है – प्रतिभाशाली, उच्‍च मानसिक विकास वाले
  • संवेगों का सम्‍बन्‍ध होता है – मूल प्रवृत्ति से

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *